Searching...
शनिवार, 7 जुलाई 2007

असर उसको ज़रा नहीं होता - मोमिन खाँ ’मोमिन’

आज इस बज़्म में मैं १९वीं सदी के मशहूर शायर मोमिन खाँ ’मोमिन’ की एक गज़ल लेकर हाज़िर हुआ हूँ। मोमिन अपने ज़माने के उस्ताद शायरों में गिने जाते थे। उनकी ये गज़ल आपको भी पसंद आयेगी:


असर उसको ज़रा नहीं होता ।
रंज राहत-फिज़ा नहीं होता ।।

बेवफ़ा कहने की शिकायत है,
तो भी वादा वफा नहीं होता ।

जिक़्रे-अग़ियार से हुआ मालूम,
हर्फ़े-नासेह बुरा नहीं होता ।

तुम हमारे किसी तरह न हुए,
वर्ना दुनिया में क्या नहीं होता ।

उसने क्या जाने क्या किया लेकर,
दिल किसी काम का नहीं होता ।

नारसाई से दम रुके तो रुके,
मैं किसी से खफ़ा नहीं होता ।

तुम मेरे पास होते तो गोया,
जब कोई दूसरा नहीं होता ।

हाले-दिल यार को लिखूँ क्यूँकर,
हाथ दिल से जुदा नहीं होता ।

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी प्रतिक्रिया (टिप्पणी) ही मुझे अपनी रचनाओं में और सुधार करने का अवसर तथा उद्देश्य प्रदान कर सकती है. अत: अपनी टिप्पणियों द्वारा मुझे अपने विचारों से अवगत कराते रहें. अग्रिम धन्यवाद!

 
Back to top!