Searching...
रविवार, 31 अगस्त 2008
no image

मजाज़ लखनवी की एक रूमानी गज़ल

आज एक अरसे बाद चिट्ठे की ओर रुख करने का मौका मिला. कोशिश है कि आगे इतना लंबा अंतराल न हो. तो आइये, टूटे सिरे को फिर जोड़ते हुये आज बात करते ह...

बुधवार, 16 अप्रैल 2008
असाध्य वीणा : अज्ञेय

असाध्य वीणा : अज्ञेय

कुछ रचनायें एक बार पढ़ते ही मन-मस्तिष्क पर इस कदर छा जातीं हैं कि उन्हें बार-बार पढ़ने की इच्छा होती है. हालाँकि कई बार हम खुद यह नहीं समझ पात...

शुक्रवार, 4 अप्रैल 2008
no image

हाँ मगर एक दिया, नाम है जिसका उम्मीद : क़ैफ़ी

क़ैफ़ी साहब की ज़िंदगी और शायरी को जानने की इस कोशिश के पिछले मुकाम पर हमने उनकी शायरी और संवादों से सजी कुछ चुनिंदा फिल्मों का ज़िक्र किया. आज ...

रविवार, 23 मार्च 2008
no image

सोमनाथ : धार्मिक- विद्वेष के खिलाफ़ क़ैफ़ी की आवाज़

होली की मस्ती के बाद, आइये एक बार फिर लौटते हैं क़ैफ़ी साहब की ज़िन्दगी और शायरी और ज़िन्दगी के अफ़साने की ओर. मुंबई पहुँचने के बाद क़ैफ़ी साहब न...

शुक्रवार, 21 मार्च 2008
no image

होली के रंग

होली के पर्व की यह विशेषता है कि यह हर व्यक्ति को अपने में समेट लेता है और उसे कुछ समय के लिये दुनिया के हर ग़म और चिंता से दूर एक आनंद-लोक म...

रविवार, 16 मार्च 2008
no image

औरत : आज सोचा तो आँसू भर आये (क़ैफ़ी आज़मी)

सुल्तानुलमदारिस में दाखिल होने के कुछ अर्से बाद ही कैफ़ी साहब ने वहाँ के छात्रों की एक कमेटी गठित की और अपनी कुछ माँगे व्यवस्था-समिति के सामन...

रविवार, 9 मार्च 2008
no image

दोशीज़: मालिन (कैफ़ी साहब की एक खूबसूरत नज़्म)

इस सिलसिले के पिछले लेख में हमने कैफ़ी साहब की शायद सबसे पुरानी गज़ल पढ़ी जिसे बेगम अख्तर साहिबा ने अपनी आवाज़ दी है. आज बात करते हैं कैफ़ी साहब ...

रविवार, 2 मार्च 2008
कैफ़ी साहब की पहली गज़ल : इतना तो ज़िन्दगी में किसी की खलल पड़े

कैफ़ी साहब की पहली गज़ल : इतना तो ज़िन्दगी में किसी की खलल पड़े

कैफ़ी आज़मी का नाम हिन्दुस्तान के आलातरीन शायरों में शुमार किया जाता है. उत्तरप्रदेश के आज़मगढ़ जिले के एक छोटे से गाँव में सन १९१९ में जन्मे कै...

शुक्रवार, 22 फ़रवरी 2008
no image

सुदर्शन फ़ाकिर को विनम्र श्रद्धांजलि

अपनी खूबसूरत गज़लों और नज़्मों से लाखों लोगों के दिल में बसे सुदर्शन फ़ाकिर के देहांत की खबर किसी भी संगीत-प्रेमी के लिये महज़ एक साधारण खबर नही...

रविवार, 17 फ़रवरी 2008
no image

नया बनने का दर्द : गिरिजा कुमार माथुर

एक लंबे अरसे के बाद, एक बहुत ही सुंदर कविता के साथ आज फिर आपसे मुखातिब हूँ. नई कविता की सर्वाधिक लोकप्रिय कवित्रयी में गिरिजा कुमार माथुर, ध...

 
Back to top!