Searching...
शुक्रवार, 4 अप्रैल 2008

हाँ मगर एक दिया, नाम है जिसका उम्मीद : क़ैफ़ी

क़ैफ़ी साहब की ज़िंदगी और शायरी को जानने की इस कोशिश के पिछले मुकाम पर हमने उनकी शायरी और संवादों से सजी कुछ चुनिंदा फिल्मों का ज़िक्र किया. आज इस सिलसिले की इस आखिरी कड़ी में बात करते हैं, उन्हें मिले विभिन्न पुरुष्कारों व सम्मानों की.
'पद्म श्री' से अलंकृत कैफ़ी आज़मी को उनकी किताब 'आवारा सिज़्दे' के लिये साहित्य अकादमी पुरुष्कार तथा उत्तर प्रदेश उर्दू अकादमी पुरुष्कार प्रदान किया गया. इसके अलावा उन्हें सोवियत लैन्ड नेहरू पुरुष्कार, लोटस अवार्ड, महाराष्ट्र उर्दू अकादमी की ओर से विशेष पुरुष्कार आदि अन्य अनेक पुरुष्कार समय-समय पर मिलते रहे. उन्हें राष्ट्रपति पुरुष्कार तथा सन २००० में दिल्ली सरकार का पहला सहष्त्राब्दि पुरुष्कार भी मिला.
विश्व-भारती विश्व-विद्यालय, शांतिनिकेतन की तरफ़ से डाक्टरेट से सम्मानित कैफ़ी साहब को फिल्म 'सात हिन्दुस्तानी' के लिये १९६९ का राष्ट्रीय फिल्म पुरुष्कार तथा १९७४ में फ़िल्म 'गरम हवा' के संवाद व स्क्रीनप्ले के लिये फिल्मफेयर पुरुष्कार से भी नवाज़ा गया.
उनके सम्मान में दिल्ली से आज़मगढ़ के मध्य चलने वाली एक ट्रेन का नाम 'कैफ़ियात' रखा गया है. यहाँ एक बात का ज़िक्र और कर दूँ कि १९९७ में 'क़ैफ़ियात' नाम से ही एक एलबम आई थी जिसमें क़ैफ़ी साहब ने खुद अपनी रचनाओं को आवाज़ दी थी.
१० मई, २००२ में उनकी मृत्यु के बाद उनकी बेटी शबाना आज़मी (यहाँ मुझे शबाना जी से जुड़ी एक बात याद आ गई. शबाना का जब जन्म हुआ, उस समय क़ैफ़ी साहब ज़ेल में थे और कम्युनिस्ट पार्टी नहीं चाहती थी कि ऐसी हालत में शौकत किसी बच्चे को जन्म दें. पार्टी की ओर से बाकायदा शौक़त को इस वाबत आदेश भी मिला था मगर ये उनकी ज़िद ही थी कि शबाना का जन्म हुआ और दुनिया को अदाकारी का एक अनमोल नगीना मिला.) ने अपने पति ज़ावेद अख्तर के साथ मिलकर श्रीमती शौक़त क़ैफ़ी के संस्मरणों 'शौक़त क़ैफ़ी - यादों की रहगुज़र' पर आधारित एक नाटक 'क़ैफ़ी और मैं' का मंचन सन २००६ में देश व विदेश के कई स्थानों पर किया.

अब आइये पढ़ें क़ैफ़ी साहब की एक नज़्म 'चरागाँ' जो मुझे व्यक्तिगत रूप से बहुत पसंद है.

एक दो भी नहीं छब्बीस दिये
एक इक करके जलाये मैंने

इक दिया नाम का आज़ादी के
उसने जलते हुये होठों से कहा
चाहे जिस मुल्क से गेहूँ माँगो
हाथ फैलाने की आज़ादी है

इक दिया नाम का खुशहाली के
उस के जलते ही यह मालूम हुआ
कितनी बदहाली है
पेत खाली है मिरा, ज़ेब मेरी खाली है

इक दिया नाम का यक़जिहती के
रौशनी उस की जहाँ तक पहुँची
क़ौम को लड़ते झगड़ते देखा
माँ के आँचल में हैं जितने पैबंद
सब को इक साथ उधड़ते देखा

दूर से बीवी ने झल्ला के कहा
तेल महँगा भी है, मिलता भी नहीं
क्यों दिये इतने जला रक्खे हैं
अपने घर में झरोखा न मुन्डेर
ताक़ सपनों के सजा रक्खे हैं

आया गुस्से का इक ऐसा झोंका
बुझ गये सारे दिये-
हाँ मगर एक दिया, नाम है जिसका उम्मीद
झिलमिलाता ही चला जाता है.

और अब एक गज़ल:

हाथ आकर लगा गया कोई
मेरा छप्पर उठा गया कोई

लग गया इक मशीन में मैं
शहर में ले के आ गया कोई

मैं खड़ा था के पीठ पर मेरी
इश्तिहार इक लगा गया कोई

यह सदी धूप को तरसती है
जैसे सूरज को खा गया कोई

ऐसी मंहगाई है के चेहरा भी
बेच के अपना खा गया कोई

अब बोह अरमान हैं न वो सपने
सब कबूतर उड़ा गया कोई

वोह गए जब से ऐसा लगता है
छोटा मोटा खुदा गया कोई

मेरा बचपन भी साथ ले आया
गांव से जब भी आ गया कोई

आज क़ैफ़ी साहब हमारे बीच नहीं हैं, मगर उनकी शायरी हमेशा हमें उनकी याद दिलाती रहेगी. उनका सपना था एक ऐसे संसार का जहाँ समानता हो, न्याय हो. उनके रहते तो यह सपना सच न हो पाया और:

Get this widget | Track details | eSnips Social DNA


मगर उम्मीद का दिया है कि अब भी झिलमिलाता ही चला जाता है:

Get this widget | Track details | eSnips Social DNA


ये कोशिश आपको कैसी लगी, ज़रूर बतायें.

6 टिप्पणियाँ:

  1. क्या बात है भइ? एक ओर कैफी साहब के बारे में जानकारी, दूसरी ओर उनकी रचनाएँ और तीसरी ओर आडियो। आप तो छा गये हुजूर। बधाई स्वीकारें।

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी प्रस्तुति जी। बहुत धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  3. Dekhe jo jalwe husne yaar ke
    Hum to chale rahi banke pyaar ke
    Likh karr di bayan haal yeh dil ka
    Ab to kaat te nehi tere bin lamhe intezaar ka.

    जवाब देंहटाएं
  4. Ye Wada Hai Hamara
    Na Chhodenge Kabhi Saath Apka
    Jo Chhod Gaye Aap Hamein Bhool Kar
    Le Aayenge Pakar Kar Hath Aapka…

    जवाब देंहटाएं
  5. People make inferences about their beliefs and identity from their behavior. If a person is unsure about an aspect of their identity, such because the extent to which they values a candidate or staff, hedging could sign to them that they don't appear to be|they aren't} as dedicated to that candidate or staff as they originally believed. If the 온라인카지노 diagnostic cost of this self-signal and the resulting identity change are substantial, it might outweigh the outcome result} utility of hedging, and they could reject even very beneficiant hedges. Gamblers usually gamble to try to win again cash they have misplaced, and a few gamble to relieve emotions of helplessness and anxiety. Martingale – A system primarily based on staking sufficient every time to get well losses from earlier bet until one wins. Based on Sports Betting, Virtual Sports are fantasy and never played sports events made by software program {that can be|that could be} played every time without questioning about exterior things like weather circumstances.

    जवाब देंहटाएं
  6. Whether you use Android, 카지노사이트 Windows, or iOS mobile gadgets, you'll be able to|you'll|you can} dive straight into the catalogue in instant-play mode with no extra software program required. Still, the mobile compatibility might use some extra work. You’ve stuffed up on the buffet and you’re itching to roll the cube and see if woman luck is in your side. You may have big desires of hitting the jackpot and retiring on your own personal island, however that’s not going to occur here. Gambling is a good time and can supply a pleasant rush when issues shake out in your favor, however it’s not the way it} seems within the motion pictures.

    जवाब देंहटाएं

आपकी प्रतिक्रिया (टिप्पणी) ही मुझे अपनी रचनाओं में और सुधार करने का अवसर तथा उद्देश्य प्रदान कर सकती है. अत: अपनी टिप्पणियों द्वारा मुझे अपने विचारों से अवगत कराते रहें. अग्रिम धन्यवाद!

 
Back to top!